Thursday, January 5, 2012

अन्मूलन उपागम हिंदी में|

मेरे प्रिय भारतीय दोस्तों,
आपको नये साल की हार्धिक सुभकामनाये|

अहिंसा पर एक छोटा सा लेख|

हर साल हम छप्पन सौ करोड़ जानवरों का उत्पीडन और हत्या करते है| यह हिंसा है|
पर हम यह भयानक हिंसा को रोक सकते है| हम अहिंसा को अपने जीवन का एक प्रमुख भाग बना सकते है|
हमे मास खाना, दुग्ध का प्रयोग, ऊन और रेशम को उपयोग करना और जानवरों की खाल पहेनना बंद करना होगा| हमे मनोरंजन और आनंद के लिए जानवरों का शोषण बंद करना होगा| हमे दूसरो को शिखाना होगा की जानवरों का शोषण करना गलत है| दुसरे सब्दो में, अगर हम अहिंसा और न्याय में विश्वास करते है तो हमे वीगन बनना होगा| साकाहारी जीवन शैली भी हिंसा है|

वीगन जीवन शैली दुनिया की तमाम समस्या का समाधान है|
वीगन=अहिंसा|| यह शालीनता का निम्नतम स्तर है|

आपसे अनुरोध है की आप इस बात को समझे की दही, पनीर, मख्खन और अन्य दुग्ध सामिग्री हिंसा है|
में आपको इसे समझने के लिए प्रोत्साहित करता हूँ| आपसे अनुरोध है की आप जाने की जानवरों का शोषण करने में कोई मानवता नहीं है, और अगर है तब भी यह अनैतिक और अनुचित है|

हम प्राथर्ना करते है की २०१२ में हम शांति को अपनाये और वीगन जीवन शैली का प्रचार करे|

हर्ष और शांति||

अन्मूलन उपागम हिंदी में|

अन्मूलन उपागम हिंदी में:
http://www.abolitionistapproach.com/media/pdf/ARAA_Pamphlet_A4_Hindi.pdf

The myth of India's sacred cow and reverent exploitation:
http://www.examiner.com/vegan-in-roanoke/the-myth-of-india-s-sacred-cow-and-reverent-exploitation

अहिंसा और वीगन जीवन सैली:
http://www.abolitionistapproach.com/media/pdf/Ahimsa.pdf

हिंसा का पद्चिन कम करे:
http://veganjains.com/2011/12/17/lower-your-himsa-footprint/

वीगन नहीं है?
कृपया यहाँ शुरू करे: http://www.bostonvegan.org/

My dear Indian friends,
I wish you all a very happy 2012.

A little note about non-violence.

 Each year we torture and kill 56 billion other animals. This is great Himsa. The good news is, we can stop this terrible violence. We can bring non-violence in every aspect of our lives. We need to stop eating, wearing and using other animals. We need to stop eating meat, dairy, wearing fur, wool, leather, silk and stop using all animal products. We need to stop exploiting animals for entertainment and for our pleasure. We need to teach others that exploiting animals is wrong. In other words, if we really believe in nonviolence and justice, we should be VEGAN. It is still Himsa if we are vegetarian.

 Veganism is the answer to many of the world's problems. Veganism = Ahimsa. It is the minimum standard of decency.

 My dear Jain friends. Please understand that eating yoghurt, cheese, and other dairy products are Himsa. I encourage all to consider this. Please know that there is no "humane" way to exploit animals, and even if there were, it still would be immoral and unjust.

 May 2012 move us closer to peace. May veganism be widespread.

 Joy and peace

 The abolitionist approach in Hindi

Abolitionist Approach Pamphlet in Hindi http://www.abolitionistapproach.com/media/pdf/ARAA_Pamphlet_A4_Hindi.pdf


The myth of India's sacred cow and reverent exploitation
http://www.examiner.com/vegan-in-roanoke/the-myth-of-india-s-sacred-cow-and-reverent-exploitation

Ahimsa and Veganism
http://www.abolitionistapproach.com/media/pdf/Ahimsa.pdf

Lower your Himsa Footprint:
http://veganjains.com/2011/12/17/lower-your-himsa-footprint/

Not vegan? Please start here
http://www.bostonvegan.org/
Post a Comment